Wednesday, October 29, 2008

नए सूरज का नया सवेरा ....

एक साल यूँ बह चला हाथोंसे जैसे फिसली रेत ,
सहर लेकर आई है आज खुशियोंका संदेश .......
दिन चढ़ना दिन ढलना ये तो जिंदगी की रीति है ,
जन्म होता है जिस घड़ी मृत्यु तभी होती निश्चित है ..........

नया सूरज है नया सवेरा ,नई है आशाएं और उमंग ,
अकेले क्यों रहे वीराने में तनहा ?
बाटें अपनी खुशियाँ और औरोंके गम ,
आज दीवाली की रात की अमावस्या को दीयों से सजादे
किसीके आँसूओं को अपनी हँसी देकर मिटा दे ...........
Post a Comment

પૂરાલેખ / અર્કાઇવ

લિપ્યાંતરણ

આ બ્લૉગ ને તમારી પસન્દ ની લિપિ માં વાંચો

Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam Hindi
Via chitthajagat.in

ઉપયોગી કડીઓ