Monday, August 4, 2008

दोस्ती के मायने ...?

=मांगनेसे तो खुदा भी मिल सकता है ,
तो ये रकीब क्या चीज़ है ?
तड़प हो गर पा लेने की ,
तो ये खुशियाँ भी क्या चीज़ है ??

=दम भरते थे वो दोस्ती का हरदम ,
मायने भी क्या दोस्तीके क्या वो समज पाये है ?
खफा भी हुए है हम इसी बात पर ,
पर उफ़ ... शिकायत भी न कर पाये है ............
Post a Comment

પૂરાલેખ / અર્કાઇવ

લિપ્યાંતરણ

આ બ્લૉગ ને તમારી પસન્દ ની લિપિ માં વાંચો

Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam Hindi
Via chitthajagat.in

ઉપયોગી કડીઓ